Advertisements

लोन कैसे लें? पर्सनल लोन लेने का तरीका?

Share With Friends

Personal Loan Details
Contents hide

लोन क्या है? (Loan Kya Hai?)

आपने कभी न कभी लोन के बारे में जरुर सुना होगा पर क्या आप जानते हैं Loan क्या है, लोन कितने प्रकार के होते हैं, लोन कैसे लेते हैं और लोन लेने के फायदे व नुकसान क्या हो सकते हैं, यदि नहीं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें इसमें हमने आपको लोन के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की है। हमारे देश भारत में अधिकतर लोग मध्यमवर्गीय परिवारों से संबंध रखते हैं, जिससे कि उनके पास किसी काम को करने के लिए जैसे घर बनाना, कार खरीदना, बच्चों को उच्च शिक्षा दिलवाना, अपना व्यवसाय शुरू करना इत्यादि के लिए पर्याप्त पैसे नहीं होते हैं, इसलिए पैसों की जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्हें जरुरत होती है लोन की। लोन लेने के लिए लोग बैंक या अनेक वित्तीय संस्थाओं, जिन्हें कि ऋणदाता कहते हैं, के पास जाते हैं और वहां अपनी आवश्यकतानुसार विभिन्न प्रकार के लोन के लिए आवेदन करते हैं। प्रत्येक ऋणदाता की लोन देने के अपनी कुछ नियम और शर्तें होती हैं, जिसके आधार पर वे लोन प्रदान करवाते हैं, और जानते हैं लोन क्या है:-

सबसे अच्छा लोन कौन सी कंपनी देती है?

सबसे बड़े बैंक एसबीआई भी सस्ती दर पर पर्सनल लोन उपलब्ध करवा रहा है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के पर्सनल लोन 9.60 फीसदी की दर है। यह बैंक अभी पर्सनल लोन पर कम ब्याज के साथ प्रोसेसिंग फी से छूट भी ऑफर कर रहा है। आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक की दरें 10.5 फीसदी से शुरू हैं।

पर्सनल लोन लेने का तरीका ?

आपको बस आपके एक ID प्रूफ़ ( पैन कार्ड, आधार कार्ड), एड्रेस प्रूफ़ ( रेंट एग्रीमेंट, आधर कार्ड ), इनकम प्रूफ़ ( बैंक स्टेटमेंट) और एक फोटो की ज़रूरत पड़ेगी। एक बार डॉक्यूमेंट पूरे होने के बाद कुछ घण्टों में उन्हें जांचकर आपका लोन अप्रूव कर देगा और आपको आपकी पसंद के खाते में कुछ दिनों में लोन मिल जाएगा।

Advertisements

पर्सनल लोन हेतु आवश्यक दस्तावेज?

पहचान का प्रमाण ( आधार, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड)
निवास का प्रमाण (आधार कार्ड, पासपोर्ट, रेजिडेंशियल सर्टिफिकेट)
आय का प्रमाण (पिछले 3 माह की सैलरी स्लिप के साथ-साथ 3 महीने का बैंक स्‍टेटमेंट
पासपोर्ट साइज की फोटो
मोबाइल नंबर

Read :- LoanTap – Personal Loan App? LoanTap Interest Rate?

लोन में इस्तेमाल होने वाले कुछ टर्म:-

  • Principle Amount : लोन में जो राशि उधार ली जाती है उसे Principle Amount कहते हैं।
  • Rate Of Interest : लोन लेने के लिए शुल्क के रूप में भुगतान की जाने वाली दर को ब्याज दर कहते हैं।
  • Tenure : प्रत्येक लोन को चुकाने के लिए एक निश्चित समय अवधि निर्धारित की जाती है, इसे ही Tenure कहते हैं।
  • Lender : लोन प्रदान करवाने वाले को ऋणदाता कहा जाता है, अधिकतर बैंक और वित्तीय संस्था ऋणदाता होती हैं।
  • Borrower: जो व्यक्ति लोन लेता है उसे उधारकर्ता करते हैं।

लोन के प्रकार?

अलग–अलग प्रकार के कार्यों के लिए लोन भी अलग–अलग प्रकार के होते हैं. जिसमें से प्रमुख 6 प्रकार के लोन के बारे में हमने आपको नीचे बताया है:-

1. Personal Loan, 2. Home Loan, 3. Education Loan, 4. Car Loan, 5. Gold Loan, 6. Business Loan

Personal Loan (निजी ऋण)

Personal Loan वास्तव में बैंकों द्वारा दिया जाने वाला अनसिक्योर्ड लोन है। अनसिक्योर्ड लोन में किसी तरह की गारंटी नहीं दी जाती। यह ग्राहक की नियमित आमदनी के हिसाब से उसकी लोन चुकाने की क्षमता को देख कर दिया जाता है। जब कोई व्यक्ति अपने निजी कार्यों को पूरा करने के लिए बैंक या किसी वित्तीय संसथान से लोन लेता है तो इस प्रकार के लोन को पर्सनल लोन कहते हैं। पर्सनल लोन एक ऐसी क्रेडिट सुविधा है जो आपकी फाइनेंशियल ज़रूरतों को पूरा करने में मदद करती है। पर्सनल लोन का लाभ उठाना आसान है, क्योंकि आपको किसी कोलैटरल को गिरवी रखने की ज़रूरत नहीं होती और इसमें पैसे को इस्तेमाल किए जाने के तरीके पर ज़्यादा पाबंदियां नहीं होतीं। पर्सनल लोन को आप कही घुमने के लिए, घर के निजी कार्यों के लिए, शादी–विवाह के मौकों के लिए ले सकते हैं।

Home Loan (गृह ऋण)

  • Home Loan :- जब कोई व्यक्ति अपना घर बनाने के लिए बैंक से लोन लेता है तो उसे Home Loan कहते हैं. होम लोन अधिकतर Long Term के लिए दिए जाते हैं। होम लोन सुरक्षित ऋण के अंतर्गत आते हैं इसलिए आप अधिक मात्रा में धनराशि होम लोन के लिए प्राप्त कर सकते हैं. होम लोन में ब्याज दरें भी कम होती हैं।
  • भारत में होम लोन के लिए अप्लाई करने के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट नीचे दिए गए हैं :-
  • पहचान का प्रमाण : पासपोर्ट/वोटर आईडी/ड्राइविंग लाइसेंस/पैन।
  • एड्रेस प्रूफ : टेलीफोन बिल/बिजली बिल/पासपोर्ट/बैंक स्टेटमेंट/पासबुक।
  • प्रॉपर्टी डॉक्यूमेंट : ओरिजिनल सेल डीड, सोसाइटी से NOC, आवंटन-पजेशन लेटर आदि की एक कॉपी।

Education Loan (शिक्षा ऋण)

Education Loan :- भारत या विदेश में 12वीं के बाद की पढ़ाई से संबंधित खर्चे जैसे ट्यूशन फीस, हॉस्टल फीस, आदि के लिए मिलने वाले कर्ज को एजुकेशन लोन (शिक्षा ऋण) कहते हैं। सभी प्राइवेट और पब्लिक सेक्टर बैंक एजुकेशन लोन देते हैं. लगभग सभी बैंक अपने ग्राहकों को एजुकेशन लोन प्रदान करवाते हैं। एजुकेशन लोन को तब चुकाना होता है जब बच्चा कोर्स पूरा करके नौकरी पर लग जाता है। Education Loan भी असुरक्षित लोन के अंतर्गत आते हैं, इसलिए एजुकेशन लोन लेने के लिए एक गारेंटर की आवश्यकता होती है. गारेंटर बच्चे के माता – पिता या कोई रिश्तेदार हो सकते हैं।
एजुकेशन लोन क्या होता है :- भारत में पढ़ाई करने के लिए लोन की रकम का पांच फीसदी और विदेश में पढ़ाई के लिए 15 फीसदी मार्जिन मनी की जरूरत होती है। 7.5 लाख रुपये से अधिक के लोन के लिए बैंक कुछ गिरवी रखने के लिए बोल सकते हैं। एक बार लोन एप्लिकेशन स्वीकार हो जाने पर बैंक सीधे कॉलेज/यूनिवर्सिटी को फीस स्ट्रक्चर के हिसाब से पेमेंट कर देते हैं।

Car Loan (कार लोन)

Car Loan :- जब कोई व्यक्ति अपनी गाड़ी खरीदने के लिए बैंक से लोन लेता है तो इस प्रकार के लोन को कार लोन कहा जाता है। कार लोन भी सुरक्षित लोन के अंतर्गत आते हैं :-
कार लोन पर ब्याज दर की बात करें तो फिलहाल बड़े बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक 7.65% से 8.35% तक के रेट पर कार या ऑटो लोन उपल्बध करा रहा है। प्राइवेट सेक्टर का एचडीएफसी बैंक 6.70% से 10.00% की दर से कार लोन ऑफर कर रहा है। इसी तरह, आईसीआईसीआई बैंक 7.85% से लेकर 8.80% तक के रेट पर नई कार (Car Loan) के लिए लोन ऑफर कर रहा है।

Gold Loan (गोल्ड लोन)

क्या है गोल्ड लोन :- जब कोई व्यक्ति अपने सोने के आभूषणों को ऋणदाता के पास गिरवी रखकर लोन लेता है तो इस प्रकार के लोन को Gold Loan कहा जाता है। गोल्ड लोन एक प्रकार का सिक्योर्ड लोन होता है, जहां लोन की राशि के लिए गोल्ड को सिक्योरिटी के तौर पर गिरवी रखा जाता है। गोल्ड लोन का भुगतान हो जाने तक बैंकों या गोल्ड लोन देने वाली संस्थाओं द्वारा इसे सुरक्षित लॉकर में रखा जाता है। गोल्ड आपातकालीन और अल्पकालिक होता है, जिसे कम समय के लिए दिया जाता है। अधिक मात्रा में लोन प्राप्त करने के लिए Gold Loan एक अच्छा विकल्प है।

Business Loan (व्यवसाय ऋण)

जब कोई व्यक्ति अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए या फिर अपने व्यवसाय को सुचारू रूप से चलाने के लिए बैंक या वित्तीय संस्थान से लोन लेता है तो उसे Business Loan कहते हैं। भारत सरकार की अनेक स्कीम हैं जिसके द्वारा जरूरतमंद लोग अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए बैंक से लोन ले सकते हैं। जैसे कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना. बिजनेस लोन के लिए यह आपकी इनकम प्रूफ के तौर पर काम करता है. आधार कार्ड/निवास का प्रमाण : निवास का प्रमाण बिजनेस लोन के लिए जरूरी है। बिजनेस एड्रेस प्रूफ: बिजनेस लोन के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट्स में व्यावसायिक पता (Business Address) का प्रमाण देना जरूरी है। यह पहला फिल्टर है, जिसके आधार पर लोन दिया जाता है।

इसे पढें :- Cash Samosa Loan App से लोन कैसे लें? Cash Samosa Intrest Rate?

समय अवधि के आधार पर लोन के प्रकार?

समय अवधि (Time Period) के आधार पर लोन मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं : –

  • Short Term Loan – Short Term Loan में पैसे चुकाने के लिए Tenure 1 साल या इससे कम का होता है. अधिकतर अनसिक्योर्ड पर्सनल लोन Short Term के लिए ही दिए जाते हैं।
  • Medium Term Loan – इस प्रकार के लोन में पैसे चुकाने के लिए Tenure 1 साल से लेकर 3 साल के लिए होता है. सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन दोनों ही Medium Term के लिए दिए जाते हैं।
  • Long Term Loan – इस प्रकार के लोन में पैसे चुकाने के लिए Tenure 3 साल या इससे भी अधिक होता है. केवल सिक्योर्ड लोन ही Long Term के लिए दिए जाते हैं।

सिक्योर्ड लोन और अनसिक्योर्ड लोन क्या होता है?

जब भी आप लोन के लिए आवेदन करते हैं तो उससे पहले आपको सिक्योर्ड लोन और अनसिक्योर्ड लोन के बारे में भी पता होना चाहिए:-

सुरक्षित ऋण (Secured Loan)

  • सिक्योर्ड लोन ऐसे लोन होते हैं जो किसी सम्पति के द्वारा सुरक्षित रहते हैं. इस प्रकार के लोन लेने में आपको अपनी किसी सम्पति को Collateral के रूप में ऋणदाता के पास गिरवी रखना पड़ता है. ऋणदाता उस सम्पति को तब तक अपने पास रखता है जब तक कि लोन की पूरी राशि ब्याज सहित न चूका दें।
  • अगर आपको अधिक मात्रा में लोन की जरुरत है तो सिक्योर्ड लोन सबसे अच्छा विकल्प होता है। इस प्रकार के लोन में आप ऋणदाता को आश्वाशन देते हैं कि आपका लोन चूका दिया जाएगा।
  • अगर किसी स्थिति में उधारकर्ता लोन की राशि को वापस नहीं चुका पाता है तो ऋणदाता गिरवी रखी सम्पति को बेचकर लोन की राशि की चुकौती कर सकता है। Home Loan, Car Loan आदि सिक्योर्ड लोन के अंतर्गत ही आते हैं।

असुरक्षित ऋण (Unsecured Loan)

अनसिक्योर्ड लोन या असुरक्षित ऋण बिल्कुल विपरीत होते हैं सिक्योर्ड लोन के। इस प्रकार के लोन में आपको ऋणदाता के पास अपनी कोई समाप्ति गिरवी नहीं रखनी पड़ती है। इस प्रकार के लोन देने में ऋणदाता को जोखिम रहता है। ऋणदाता असुरक्षित ऋण को उधारकर्ता के चरित्र, क्षमता, पूंजी, सम्पति और कुछ शर्तों के आधार पर देते हैं। पर्सनल लोन, एजुकेशन लोन आदि अनसिक्योर्ड लोन के अंतर्गत आते हैं।

Loan Kaise Le?

पर्सनल, होम और अन्य लोन लेने के दो तरीके हैं – ऑफलाइन और ऑनलाइन. आप दोनों प्रकार से लोन ले सकते हैं।

  • ऑफलाइन लोन लेने का तरीका :- ऑफलाइन तरीके से लोन लेने के लिए आपको लोन प्रदान करने वाले बैंकों या वित्तीय संस्थाओं के पास जाना पड़ता है, और लोन एप्लीकेशन को Fill करना होता है और लोन प्रदाता के नियमों और शर्तों को Accept करना होता है, और अगर आप Eligible पाए जाते हैं तो आपको लोन एप्लीकेशन को स्वीकार कर लिया जाता है और लोन की राशि आपके बैंक अकाउंट में डाल दी जाती है।
  • ऑनलाइन लोन लेने का तरीका :- ऑनलाइन तरीके में आप घर बैठे लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं, इसके लिए आपको बैंकों या वित्तीय संस्थाओं के लोन एप्लीकेशन को डाउनलोड करना होता है और ऑनलाइन लोन एप्लीकेशन Submit करनी होती है। अगर आप लोन के लिए Eligible पाए जाते हैं तो लोन की राशि तुरंत ही आपके बैंक खाते में डाल दी जाती है।

इसे भी पढें :- QUICK Loan App से लोन कैसे ले? Quick Loan App Review

लोन लेने के फायदे?

लोन लेने के अनेक सारे फायदे होते हैं जैसे कि:-

  • आप अपनी जरुरत के अनुसार पैसों की प्राप्ति कर सकते हैं।
  • अगर आप लोन के लिए योग्य पाए जाते हैं तो 24 से 48 घंटों के अन्दर लोन की राशि आपके बैंक खाते में ट्रान्सफर कर दी जाती है।
  • लोन लेने में आपको Flexibility मिलती है, आप अपनी कमाई के आधार पर अपना Tenure तय कर सकते हैं।
  • अप अपनी आवश्यकतानुसार विभिन्न प्रकार के लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • लोन लेने से आप अपनी आर्थिक स्थिति में सुधर कर सकते हैं।
  • लोन लेने के नुकसान : लोन लेने के नुकसानों के बारे में नीचे बताया गया है :–
  • लोन को वापस चुकाने के लिए आपको अतिरिक्त शुल्क ब्याज के रूप में देना होता है।
  • समय पर लोन की राशि न चुका पाने पर आपकी संपत्ति को जोखिम हो सकता है।
  • तय समय के अन्दर लोन की EMI न चुकाने पर आपको अतिरिक्त फाइन देना पड़ता है।
  • लोन लेने के दौरान उधारकर्ता को अनेक प्रकार के शुल्क भी देने होते हैं जैसे प्रोसेसिंग फीस, सर्विस फीस आदि।

ऑनलाइन पर्सनल लोन के लिए कैसे अप्लाई करें?

  1. डाउनलोड और रजिस्टर करें अपनी मूल जानकारी के विवरण को भरें और जानें कि क्या आप रियल टाइम में लोन के योग्य हैं या नहीं।
  2. केवाईसी डॉक्यूमेंटेशन …
  3. फंड का उपयोग शुरू करें …
  4. फ्लेक्सिबल ईएमआई चुनें

लोन देने के लिए कई तरह की चीजें पहले देखते हैं, इनमें शामिल है:-

  • आवेदक भारत का नागरिक हो।
  • आवेदक की उम्र 21-60 साल के बीच हो।
  • जॉब या बिजनेस से नियमित आमदनी हो।
  • कम से कम 15,000 महीने की कमाई हो।
  • छह महीने का बैंक स्टेटमेंट मौजूद हो।
  • क्रेडिट हिस्ट्री ठीक हो।

प्राइवेट बैंक से लोन कैसे मिलेगा?

  • फोटो पहचान पत्र – वोटर ID / पासपोर्ट / ड्राईविंग लाइसेंस / आधार कार्ड़ की फोटो कॉपी।
  • निवास का प्रमाण – राशन कार्ड़ / बिजली बिल /निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण –अंतिम 6 महीने की आपके बैंक विवरण की कॉपी
  • रोजगार प्रमाण पत्र – एक वर्ष के निरंतर रोजगार का प्रमाण पत्र

इसे पढें :- FlexSalary Instant Loan App Se लोन कैसे ले? FlexSalary App Review?

पर्सनल लोन देने का आधार?

अगर आप की मासिक सैलरी ₹20000 है तब भी आप बैंक लोन एप और कर्ज देने वाली वेबसाइट के जरिए पर्सनल लोन ले सकते हैं। पर्सनल लोन देने के लिए बैंक आपकी सैलरी और आपकी क्रेडिट हिस्ट्री देखते हैं। कर्ज देने वाले अलग-अलग संस्थानों के हिसाब से आपके पर्सनल लोन की रकम और ब्याज दरों में अंतर हो सकता है। पिछले कुछ सालों में बैंकों ने पर्सनल लोन देने के लिए अपने क्राइटेरिया में बदलाव किया है। इस हिसाब से अब ₹20,000 तक के मासिक वेतन वाले लोगों को भी पर्सनल लोन मिल सकता है।

कौन सा बैंक सबसे तेज पर्सनल लोन देता है?

एचडीएफसी बैंक ग्राहकों को 10 सेकंड के फ्लैट में पूर्व-अनुमोदित ऋण प्रदान करता है। गैर-एचडीएफसी बैंक ग्राहक 4 घंटे में ऋण प्राप्त कर सकते हैं।

पर्सनल लोन कितना मिल सकता है?

पर्सनल लोन की औसत ब्याज दर 12 फीसदी के करीब होती है। आमदनी के हिसाब से पर्सनल लोन की अवधि करीब 5 साल तक हो सकती है। पर्सनल लोन की रकम अमूमन 50,000 रुपये से 25 लाख रुपये हो सकती है, आपके वेतन के हिसाब से कुछ संस्‍थान आपको 40 लाख तक पर्सनल लोन देने का दावा करते हैं।

इसे पढें :- एक्सिस बैंक क्रेडिट कार्ड? Axis Bank Credit Card Kaise Le?

लॉन्ग टर्म लोन क्या होता है?

ऐसा लोन जिसे वापस करने के लिए 3 साल या इससे अधिक का समय होता है Use Long Term Loan कहते हैं।

Tenure (टेन्योर) क्या होता है?

किसी भी लोन को वापस करने की एक निश्चित समय अवधि होती है जिसे कि Tenure कहा जाता है।

पर्सनल लोन क्या है?

जब कोई व्यक्ति अपने निजी कार्यों को करने के लिए बैंक या वित्तीय संस्थाओं से लोन लेता है तो उसे पर्सनल लोन कहते हैं.

मोबाइल से लोन कैसे लेते हैं?

आप बैंक या वित्तीय संस्थाओं की मोबाइल एप्लीकेशन के द्वारा ऑनलाइन मोबाइल से लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं और लोन आवेदन Approve होने पर तुरंत लोन प्राप्त कर सकते हैं।

इसे भी पढें :- Bank Se लोन कैसे ले (बैंक से लोन लेना है क्या करें)? Loan review in hindi?

लोन क्या है पूरी जानकारी हिंदी में?

लेख को पढने के बाद आपको लोन के बारे में बेसिक जानकारी मिल गयी होगी। आपको तभी लोन लेना चाहिए जब बहुत आवश्यक हो. अगर आप लोन लेने का मन बना ही चुके हैं तो लोन लेने से पहले आपको अपनी वित्तीय स्थिति, मासिक आय और क्षमता का भी जरुर आंकलन कर लेना चाहिए. जिससे कि लोन चुकाने में आपको अधिक वित्तीय समस्याओं का सामना न करना पड़ें।

उम्मीद करते हैं आपको यह लेख Loan Kya Hai In Hindi पसंद आया होगा, अगर आप लेख से सम्बन्धित सुझाव हमें देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर दे सकते हैं, अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें।

Thanks


Share With Friends

About mohitsheokand08

Check Also

Bank Of Baroda से होम लोन कैसे लिया जाता है?

Share With Friends Details Home Loan BOB Bank Of Baroda – Home loan Apply Online …

Leave a Reply

Your email address will not be published.